Diese Präsentation wurde erfolgreich gemeldet.
Wir verwenden Ihre LinkedIn Profilangaben und Informationen zu Ihren Aktivitäten, um Anzeigen zu personalisieren und Ihnen relevantere Inhalte anzuzeigen. Sie können Ihre Anzeigeneinstellungen jederzeit ändern.
सर्विस क आधार पर नेटवक क प्रकार (TYPES OF NETWORK ACCORDING TO SERVICE)
े
ि े
सर्विस क आधार पर नेटवक दो प्रकार क होते हैं ...
फाइल सर्विस- नेटवक में ककसी फाइल को एक कप्यटर से दसरे कप्यटर पर िान्सफर ,मव या कॉपी करने क ललए
ि
ं ू
ं ू
े
ु
ू
फाइल सर्विस...
सर्विस ररकएस्टर- सर्विस ररकएस्टर वे कप्यटर होते है l िो नेटवक में उपजस्र्त ककसी और कप्यटर से र्वलभन्न
ं ू
ि
ं ू
ु
ु
प्रकार...
लैन (लोकल एररया नेटवक)- - लैन एक ऐसा नेटवक होता है िो कम दरी में फला हुआ होता है िैसे ककसी घर में रखे
ि
ि
ै
ू
दो कप्यटर क ...
Nächste SlideShare
Wird geladen in …5
×

Networking in hindi notes

20.185 Aufrufe

Veröffentlicht am

SirajRock

Veröffentlicht in: Bildung
  • Als Erste(r) kommentieren

Networking in hindi notes

  1. 1. सर्विस क आधार पर नेटवक क प्रकार (TYPES OF NETWORK ACCORDING TO SERVICE) े ि े सर्विस क आधार पर नेटवक दो प्रकार क होते हैं े ि े १- पीयर टू पीयर २- सविर सेंट्रिक पीयर टू पीयर- पीयर टू पीयर नेटवक एक ऐसा नेटवक होता है जिसमे ननजचित रूप से न तो कोई कप्यटर सविर होता ि ि ं ू है और न ही कोई कप्यटर क्लाइंट लेककन आवचयकता क अनसार कोई भी कप्यटर सविर भी बन सकता है और कोई ं ू े ं ू ु भी कप्यटर क्लाइंट l इसे समझने क ललए हमें सविर क्लाइंट और पीयर को भी समझना पड़ेगा ं ू े सविर(SERVER)- सविर उस कप्यटर को कहा िाता है िो नेटवक में अन्य कप्यटर को कोई डाटा इन्फामेसन या सर्विस ं ू ि ं ू प्रदान करता है l क्लाइंट (CLIENT)- क्लाइंट वह कप्यटर होता है िो सविर कप्यटर द्वारा दी िाने वाली सेवाओं का प्रयोग करता है l ं ू ं ू पीयर(peer)- पीयर वह कप्यटर होता है न तो सविर होता है और न क्लाइंट पर िरुरत क समय यह सविर की तरह भी ं ू े कायि कर सकता है और क्लाइंट की तरह भी l सविर सेंट्रिक- सविर सेंट्रिक नेटवक वह नेटवक होता है जिसमे एक सविर होता है और बाकक कप्यटर उसक क्लाइंट होते ि ि ं ू े हैं सविर द्वारा कई प्रकार क सेवाएँ क्लाइंट कप्यटर को दी िाती हैं िैसे फाइल सेवा,र्प्रंट सेवा,इन्टरनेट सेवा आट्रद े ं ू और सविर लसस्टम क्लाइंट लसस्टम को कण्ट्िोल और मैनेि भी करता है l नेटवक सर्विस क प्रकार ( TYPES OF NETWORK SERVICES) ि े नेटवक में कप्यटर क र्वलभन्न ररसोसेस िैसे हाडि-डडस्क ,सीडी-ड्राइव,र्प्रंटर आट्रद को शेयर करने क ललए नेटवक ि ं ू े े ि सर्विस ही जिम्मेदार होतीं हैं नेटवक में प्रयोग होने वाली प्रमख सर्विसेस ननम्न हैंि ु १- फाइल सर्विस २- र्प्रिंट सर्विस ३- मेसेज सर्विस ४- डाटाबेस सर्विस ५- एप्लीकशन सर्विस े
  2. 2. फाइल सर्विस- नेटवक में ककसी फाइल को एक कप्यटर से दसरे कप्यटर पर िान्सफर ,मव या कॉपी करने क ललए ि ं ू ं ू े ु ू फाइल सर्विस प्रयोग में आती है l फाइल सर्विस ही नेटवक में बैकप की सर्वधा प्रदान करती है l फाइल सर्विस स्टोरे ि ि ु डडवाइस को प्रभावी तरीक से प्रयोग करती है l े र्प्रिंट सर्विस- र्प्रंट सर्विस का कायि नेटवक में ककसी एक कप्यटर पर लगे र्प्रंटर को नेटवक क अन्य कप्यटर क ललए ि ं ू ि े ं ू े उपलब्ध करवाना होता है l अर्ाित र्प्रंट सर्विस क कारण ही एक र्प्रंटर का प्रयोग नेटवक क सभी यिर कर पाते हैं l े ि े ू र्प्रंट सर्विस का कायि नेटवक में र्प्रंटर की संख्या को कम करना होता है l इस सर्विस क कारण ही नेटवक में र्प्रंटर को ि े ि कहीं भी इस्र्ार्पत ककया िा सकता है l इसकी विह से ही र्प्रंट िोब्स एक पंजक्त में रहते हैं l इसक द्वारा ही र्प्रंटर को े नेटवक में एक्सेस कण्ट्िोल व मैनेि ककया िा सकता है l ि मेसेज सर्विस- िैसा की हम नाम से ही समझ सकते है l की मेसेि सर्विस का कायि एक कप्यटर का मेसेि दसरे ं ू ू कप्यटर तक पहुिना होता है l इसक सार् सार् हम डाटा ऑडडयो र्वडडयो टे क्स्ट आट्रद भी भेि सकते हैं l एक प्रकार ं ू े से मेसेि सर्विस फाइल सर्विस की तरह ही कायि करती है l लेककन यह डाइरे क्ट कप्यटर क बीि कायि न करक यिर ं ू े े ू अजप्लकसन क बीि कायि करती है l इ-मेल व वोइस-मेल इसक ही उदहारण हैं l े े े डाटाबेस सर्विस- यह सर्विस नेटवक में सविर आधाररत डाटाबेस की सर्वधा प्रदान करती है l अर्ाित नेटवक में िब ि ि ु कोई क्लाइंट ररक्वेस्ट करता है तो उसे आवचयक िानकारी डाटाबेस सविर क द्वारा प्रदान कर दी िाती है l यह सर्विस े डाटा लसक्योररटी प्रदान करती है l और इसक कारण ही डाटाबेस की लोकसन कजन्ित हो पनत है l े े े एप्लीकशन सर्विस- नेटवक में वे सर्विस िो नेटवक क्लाइंट क ललए सोफ्टवेयर िलाती हैं l एप्लीकशन सर्विस े ि ि े े कहलाती हैं l यह सर्विस कवल डाटा ही नहीं शेयर करती बजकक उनकी प्रोसजस्संग पॉवर भी शेयर करने की अनमनत े ु प्रदान करती है l इसका सबसे अच्छा उदाहरण लैन गेलमंग है l जिसमे एक गेम को कई यिर एक सार् खेलते हैं l ू नेटवक सर्विस (NETWORK SERVICE) ि नेटवक सर्विस कप्यटर हाडिवेयर तर्ा कप्यटर साफ्टवेयर की एक लमलीिुली योग्यता होती है l जिसे वे नेटवक में ि ं ू ं ू ि उपजस्र्त कप्यटर क सार् बाँट सकते हैं l इसक कारण ही नेटवककग में र्वलभन्न प्रकार क कायि संभव हो पाते हैं l ं ू े े िं े नेटवक क कप्यटर सर्विस लेते भी हैं और सर्विस दे ते भी हैं l इस आधार पर नेटवक में उपजस्र्त कप्यटर को दो भागों ि े ं ू ि ं ू में बांटा िाता है १- सर्विस प्रोवाइडर २- सर्विस ररकएस्टर ु सर्विस प्रोवाइडर - सर्विस प्रोवाइडर वे कप्यटर होते है िो नेटवक में उपजस्र्त कप्यटर को अपनी र्वलभन्न सर्विसेस ं ू ि ं ू प्रदान करते हैं l इसे हम सविर भी कहते हैं l
  3. 3. सर्विस ररकएस्टर- सर्विस ररकएस्टर वे कप्यटर होते है l िो नेटवक में उपजस्र्त ककसी और कप्यटर से र्वलभन्न ं ू ि ं ू ु ु प्रकार की सर्विसेस लेते हैं l इसे हम क्लाइंट भी कहते हैं l प्रोटोकॉल (PROTOCOL) प्रोटोकॉल ऐसे ननयमो का समह होता है l जिसक द्वारा यह ननधािररत होता है कक ककस प्रकार एक डडवाइस या कप्यटर े ं ू ू का डाटा व इन्फामेसन दसरे डडवाइस या कप्यटर में िांसलमट हो l ं ू ु हम यह भी कह सकते है कक प्रोटोकॉल दो कप्यटर क बीि एक भाषा कक तरह कायि करता है और एक कप्यटर क डाटा ं ू े ं ू े व लसग्नकस को दसरे कप्यटर को समझाता है कछ प्रोटोकॉल ननम्नललखखत हैं l ं ू ु ु १- ऍफ़ टी पी (फाइल िािंसफर प्रोटोकॉल ) २- एस एम टी पी (ससम्पल मेल िािंसफर प्रोटोकॉल ) ३- एच टी टी पी (हाइपर टे क्सस्ट िािंसफर प्रोटोकॉल ) ४- टी सी पी (िािंससमसन कण्ट्िोल प्रोटोकॉल ) ५- आइ पी (इन्टरनेट प्रोटोकॉल ) आट्रद l एक कप्यटर नेटवक क सलए न्यनतम आवश्यकताएिं (MINIMUM REQUIREMENTS FOR A िं ू ि े ू COMPUTER NETWORK) एक कप्यटर नेटवक बनाने क ललए ननम्न आवचयकतायें होती हैं ं ू ि े १- कम से कम दो कप्यटर जिनमे ऑपरे ट्रटग लसस्टम हो (नेटवककग को सपोटि करने वाला) ं ू ं िं २- िांसलमशन लमडडया (वायडि या वायरलेस) ३- प्रोटोकाल कप्यटर नेटवक क प्रकार (TYPES OF COMPUTER NETWORK) िं ू ि े कप्यटर नेटवक को हम दरी क आधार पर हम मख्य तीन प्रकारों में बाँट सकते हैं ं ू ि ू े ु १- लैन २- मैन ३- वैन
  4. 4. लैन (लोकल एररया नेटवक)- - लैन एक ऐसा नेटवक होता है िो कम दरी में फला हुआ होता है िैसे ककसी घर में रखे ि ि ै ू दो कप्यटर क बीि का नेटवक ,ककसी ऑकफस क कछ कप्यटर का नेटवक या ककसी बबजकडंग में फला हुआ नेटवक l ं ू े ि े ु ं ू ि ै ि इसकी दरी को ० से १० ककमी तक माना िा सकता है लेककन यह कफक्स नहीं है कछ कम या अधधक हो सकती है l ू ु मैन (मेिो पोलीट्रटन एररया नेटवक )- मैन एक ऐसा नेटवक होता है िो दो या दो से शहरों क बीि फला हुआ हो सकता ि ि े ै है l यह लैन से बड़ा होता है इसकी दरी १ से १०० ककमी तक मानी िाती है लेककन यट्रद हम प्रायोधगक तौर पर दे खें तो ू मैन का प्रयोग नहीं होता है l कवल लैन और वैन का ही प्रयोग होता है लैन को बड़ा करने पर वह वैन बन िाता है l े वैन (वाइड एररया नेटवक )- वैन नेटवक ऐसा नेटवक होता है जिसकी कोई सीमा ननजचित नहीं होती है यह दो या दो से ि ि ि अधधक दे शो क बीि फला हुआ हो सकता है l इसका सबसे बड़ा उदाहरण इन्टरनेट है .इस प्रकार क नेटवक का प्रयोग े ै े ि बड़ी कपनी क द्वारा ककया िाता है l ं े कप्यटर नेटवक की पररभाषा िं ू ि कप्यटर नेटवक दो या दो से अधधक कप्यटर क बीि एक ऐसा एडिेस्टमेंट (सामंिस्य) होता है जिसक द्वारा वे ं ू ि ं ू े े आपस में डाटा व इन्फामेसन का आदान प्रदान करते हैं l

×