Diese Präsentation wurde erfolgreich gemeldet.
Wir verwenden Ihre LinkedIn Profilangaben und Informationen zu Ihren Aktivitäten, um Anzeigen zu personalisieren und Ihnen relevantere Inhalte anzuzeigen. Sie können Ihre Anzeigeneinstellungen jederzeit ändern.

Polity topic-kendra-shasit-pradesh-5d

4.775 Aufrufe

Veröffentlicht am

Polity topic-kendra-shasit-pradesh-5d

Veröffentlicht in: Bildung
  • Loggen Sie sich ein, um Kommentare anzuzeigen.

  • Gehören Sie zu den Ersten, denen das gefällt!

Polity topic-kendra-shasit-pradesh-5d

  1. 1. कें द्रशासित प्रदेश भारतीय राजव्यवस्था एवं असभशािन www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  2. 2. • सभी राज्य भारत की संघीय व्यवस्था के सदस्य हैं और वह कें द्र के साथ शक्तत के ववभाजन के सहभागी हैं। • दूसरी ओर, कें द्रशाससत प्रदेश वह क्षेत्र है, जो कें द्र सरकार के सीधे ननयंत्रण में होता है इससिए ऐसे प्रदेशों को कें द्रशाससत क्षेत्र भी कहते हैं। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  3. 3. कें द्रशासित प्रदेशों का प्रशािन • राष्ट्रपनत, प्रशासक को पदनाम दे सकता है। वे िेक्टिनेंि-गवननर (ददल्िी अंडमान ननकोबार द्वीप समूह और पुदुचरी में) या प्रशासक (चण्डीगढ, दमन और दीव तथा िक्षद्वीप में) हो सकते हैं। • राष्ट्रपनत, ककसी राज्य के राज्यपाि को राज्य से सिे कें द्रशाससत प्रदेशों का प्रशासक ननयुतत कर सकता है। • इस हैससयत में राज्यपाि अपनी मंत्रत्रपररषद के त्रबना स्वतंत्र रूप से कायन करता है। • कें द्रशाससत प्रदेश पुदुचेरी (1963) और ददल्िी (1992) में ववधानसभा गदित की गई और मंत्रत्रमंडि, मुख्यमत्री के अधीन कर ददया गया। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  4. 4. • शेष पांच कें द्रशाससत प्रदेशों में इस तरह की राजनीनतक संस्था नहीं हैं परंतु कें द्रशाससत प्रदेशों में इस तरह की व्यवस्था बनाने का यह अथन त्रबल्कु ि नहीं है कक उन पर राष्ट्रपनत व संसद का सवोच्च ननयंत्रण कम हो गया है । • ककसी कें द्रशाससत राज्य की अपनी ववधानयका होने के बावजूद राज्य सूची के ववषयों पर संसद की ववधानयका शक्तत खत्म नहीं होती है। • परंतु पुदुचेरी ववधानसभा, राज्य सूची व समवती सूची के ववषयों पर ववधध बना सकती है । Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  5. 5. • इसी तरह ददल्िी भी राज्य सूची (िोक व्यवस्था, पुसिस व भूसम को छोड़कर) व समवती सूची के ववषयों पर ववधध बना सकती है। • ददल्िी ही एकमात्र ऐसा कें द्रशाससत प्रदेश है, क्जसका स्वयं का उच्च न्यायािय (1966 से) है। • दादरा और नगर हवेिी एवं दमन व दीव, बंबई उच्च न्यायािय के दायरे में हैं। उसी तरह अंडमान व ननकोबार द्वीप समूह, चंडीगढ़, िक्षद्वीप और पुदुचेरी क्रमशः किकत्ता, पंजाब एवं हररयाणा, के रि व मद्रास उच्च न्यायािय के दायरे में आते हैं । Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  6. 6. ऑनलाइन कोच ंग के बारे में अचिक जानकारी के सलए यहां क्ललक करें http://iasexamportal.com/civilservices/courses/ias-pre/csat- paper-1-hindi हार्ड कॉपी में िामान्य अध्ययन प्रारंसभक परीक्षा (स्टर्ी ककट - पेपर - 1 (Paper - 1) खरीदने के सलए यहां क्ललक करें http://iasexamportal.com/civilservices/study-kit/ias-pre/csat- paper-1-hindi Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  7. 7. IASEXAMPORTAL Other Online Courses Online Course for Civil Services Preliminary Examination  सीसैि (CSAT) प्रारंसभक परीक्षा के सिए ऑनिाइन कोधचंग (पेपर - 2)  Online Coaching for CSAT Paper - 1 (GS)  Online Coaching for CSAT Paper - 2 (CSAT) Online Course for Civil Services Mains Examination General Studies Mains (NEW PATTERN - Paper 2,3,4,5) Public Administration for Mains For Know More Click Here: http://iasexamportal.com/civilservices/courses Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM

×