Diese Präsentation wurde erfolgreich gemeldet.
Wir verwenden Ihre LinkedIn Profilangaben und Informationen zu Ihren Aktivitäten, um Anzeigen zu personalisieren und Ihnen relevantere Inhalte anzuzeigen. Sie können Ihre Anzeigeneinstellungen jederzeit ändern.
वे दिन कह ाँ से ल ऊाँ ?!
प्रण म / नमस्ते
कोयल की आव ज़ ईश्वर की िेन है जो सुननेव लों को मुग्ध कर िेती है, ब र-ब र सुनने की ...
(बन रस के मैसूर घ ट में बने मैसूर धमयश ल के चबूतरे पर बैठे मेरे र्पत जी तूल र मन थजी शम य से
संस्कृ त की मशक्ष प्र प्त करत...
(के रल मठ के मखण श स्िी तथ अरुण चल श स्िी वेि तथ संस्कृ त सीखते हुए िश यए गये हैं - ि
इल्लस्तट्रेट्ड़ वीकमल आफ इक्डडय - 197...
कमल गुरुजी को मैं कभी-कभी ग कर सुन ती, सुनकर वे बहुत खुश होती थीं| प ठक ब ई ख न बन ती
थीं बहुत स्व दिष्ट, पर मैं प्य ज – ल...
जन्म उत्तर प्रिेश के इल ह ब ि के ननह लपुर में सन् 1904 को हुआ तथ र्वव ह खडड़व में | उसके ब ि
वे जबलपुर में रहने लगीं | ग ड़ी...
श्रीमती ओक आ गईं | श्रीम न ओक ने मेरी क फी त रीफ की | वैसे तो कॉलेज में भी मेरे स्वभ व-
व्यवह र की खूब प्रशंस होती थी | श्...
कल्य णी क घर वध य के प्रत प चौक में थ | उसके र्पत जी श्रीम न मुन्न ल लजी श ह ग ाँधीव िी थे |
उसकी म त जी कई स ल ग ाँधीजी क...
कफर हम लोग बोरधरण गए | ग ाँधीजी की अक्स्थयों पर बने खंभे के िशयन ककये |
(From Left – Sarala’s brother, kalyani’s younger b...
वह ाँ से हम लोग जबलपुर लौट आईं | आने के ब ि संतोष, कल्य णी और सरल से अतसर ममल करती |
एक दिन कल्य णी मुझे लेकर स दठय कु आाँ...
को खूब सर ह | मैं कफर श्रीमती ओक के मदहल वसनत गृह में रहने लगी | पर पररक्स्थनत कु छ ऐसी बनी कक मुझे
शोध क यय अधूर छोड़ बन र...
Nächste SlideShare
Wird geladen in …5
×

वे दिन कहाँ से लाऊँ1

434 Aufrufe

Veröffentlicht am

Reminiscing great days of my mothers' life

Veröffentlicht in: Soziale Medien

वे दिन कहाँ से लाऊँ1

  1. 1. वे दिन कह ाँ से ल ऊाँ ?! प्रण म / नमस्ते कोयल की आव ज़ ईश्वर की िेन है जो सुननेव लों को मुग्ध कर िेती है, ब र-ब र सुनने की इच्छ जगती है | फू लों क रंग, सौन्ियय, सुगंध आदि हमें अपनी ओर आकर्षयत करते हैं | ऊाँ चे-ऊाँ चे पह ड़ िुगयम होने पर भी हम र ध्य न खींचते हैं | पन्ने-सी हररय ली हमें भ ती है | कु छ लोगों के बोलने क ढंग हमें अपने वश में कर लेत है, ब र-ब र उनकी ब तें सुनने की च ह उभरती है | कु छ लोगों क व्यवह र इतन श लीन होत है कक उनसे ब र-ब र ममलने क मन करत है | कु छ के मुाँह से ननकले शब्ि हमें सतपथ दिख ते हैं | कु छ की अमभव्यक्तत हमें सही मशक्ष िेती है | कु छ क व त्सल्य हमें इतन भ व-र्वभोर कर िेत है कक उनक अभ व अखरत है | कु छ इतने स्नेदहल होते हैं कक उनकी संगनत अच्छी लगती है | उपरर मलखखत ब तें के वल भूममक ब ाँधने के मलए नहीं, मेरे दिल की गहर ई में छु पे अनुभव के प्रतीक हैं, एक शब्ि भी कृ त्रिम नहीं है | मैं आप लोगों को अपने स थ चौर लीस स ल पीछे ले ज रही हूाँ जबलपुर | ऊब को िूर रखकर मेरे अनुभवों क मन से अनुभव कीक्जएग , मेरे संग जीवन पथ के र्पछड़े र स्ते के हमर ही बननएग | जबलपुर (जह पइल पुरव – अरबी) अथ यत ् पह ड़ी ढल न | वैसे भी जबल म ने पह ड़, पुर म ने शहर | इस सुन्िर शहर के पीछे एक और आख्य न है – ज ब ली ऋर्ष क व सस्थ न; होते-होते उसमें र्वक र आ गय और बन गय वह ‘जबलपुर’ आप लोगों को लगत होग कक मैं तयों जबलपुर की यों त रीफ़ कर रही हूाँ | मैं वह ाँ िो वषय थी स्न तकोत्तर छ ि बनकर मह कोशल कल मह र्वद्य लय की | लगत होग कक इसमें कौन-स महत्व नछप है | कई लोग वह ाँ के पढ़े हुए हैं अब भी कई वह ाँ मशक्ष प्र प्त करते होंगे | महत्वपूणय ब त तो यह है कक उस मह र्वद्य लय के प्र च यय थे श्री र मेश्वर प्रस िजी ‘शुतल’ क्जन्हें आधुननक दहन्िी स दहत्य क श के सप्तर्षययों में से र्वशेष स्थ न प्र प्त (है) थ | मेरे र्पत जी मुझे भती कर ने स थ चले थे | मुगलसर य से जबलपुर पहुाँचते – पहुाँचते क फ़ी िेर लगी | वह ाँ (आर्डयनन्स फै तटरी) आयुध क रख ने में क ययरत श्री गंग धरनजी के घर खमररय पहुाँचे – क फ़ी र त हो चुकी थी | र स्ते भर र्पत जी मुझे अञ्चलजी की रचन ओं के ब रे में सुन ते आए |
  2. 2. (बन रस के मैसूर घ ट में बने मैसूर धमयश ल के चबूतरे पर बैठे मेरे र्पत जी तूल र मन थजी शम य से संस्कृ त की मशक्ष प्र प्त करते हुए क शी नरेश के िरब री स मवेि पक्डडत श्री कृ ष्णमूनतयजी श्रौती | यही चचि धमययुग में भी छप थ |)
  3. 3. (के रल मठ के मखण श स्िी तथ अरुण चल श स्िी वेि तथ संस्कृ त सीखते हुए िश यए गये हैं - ि इल्लस्तट्रेट्ड़ वीकमल आफ इक्डडय - 1972) श्री गंग धरजी और उनकी श्रीमतीजी ने हम री खूब ख नतरि री की | बन रस दहन्िू र्वश्वर्वद्य लय के कन यटक संगीत र्वभ ग में उनके अनत ननकट के ररश्तेि र सुब्रह्मडयमजी गोट्टु व द्यम के मशक्षक थे | वे और उनकी कन्य मेरे र्पत जी से दहन्िी सीखते थे | उन्होंने ही हमें गंग धरनजी क पत िेकर भेज थ | िूसरे दिन उन्होंने हमें कॉलेज पहुाँच य , उनके घर से (खमररय से) मह मह र्वद्य लय क फ़ी िूर पड़त थ | कु छ िेर तक हम लोग प्रतीक्ष कक्ष में बैठे थे | मुझे डर ममचश्रत आनन्ि क अनुभव हुआ कक इतने प्रनतक्ष्ठत व्यक्तत र्वशेष से मैं ममलनेव ली हूाँ | उन्होंने जब हमें अन्िर बुल य मेरे र्पत जी ने नमस्क र कर अपन पररचय दिय और आने क क रण बत य | अञ्चलजी ने मुस्कु र कर प्रनत वन्िन ककय और बैठने के मलये कह | र्पत जी ने कह कक अपनी बेटी को सौभ ग्य से उनकी र्वद्य चथयनी बनने क सुअवसर ममल है | कफर उनकी कु छ रचन ओं क गूढ थय तथ लक्ष्य थय को सर ह | अञ्चलजी मुस्कु र नयुतत चेहरे से र्पत जी की समीक्ष सुनते रहे | उन्होंने र्पत जी से यह कहकर आश्व सन दिय कक अब िो वषय तक आपकी कन्य बन रस की नहीं जबलपुर की बनकर रहेगी | कफर र्वभ ग ध्यक्ष श्रीमती कमल जी जैन को बुलव कर हम र पररचय कर कर उत्तरि नयत्व सौंप दिय | कमल गुरुजी हमें नेर्पयर ट उन ले गईं अपने घर | श्रीम न (न म य ि नहीं) जैन वह ाँ के सुप्रमसद्ध वकील थे | गुरुजी क व्यवह र हम लोगों के प्रनत अपन पन क थ | वे मेरे र्पत जी को “भैय जी” कहकर संबोचधत करने लगीं और मैं उन्हें ‘बुआजी’ | मह कोशल मह र्वद्य लय के छ िों के मलए श यि तीन छ ि व स थे पर लड़ककयों के मलए छ ि व स नहीं थ | इस क रण मुझे पचमढ़ी ले गईं जह ाँ र्वश्वर्वद्य लय थ | श्रीमती अवस्थी / पर शर से ममलकर मेर र्वश्वर्वद्य लय के छ ि व स में रहने क प्रबंध ककय | र्पत जी ननक्श्चन्त हो बन रस लौट चले | खमररय से अपन स म न लेकर कमल गुरुजी के स थ मैं छ ि व स पहुाँची | वह ाँ र्वश्वर्वद्य लय की छ ि एाँ थीं कु छ मेरे कॉलेज की भी | मेरे स थ कु म री कल्य णी श ह थी जो र्वश्वर्वद्य लय में एम.ए कर रही थी | उसकी सहप दठन थी कु म री संतोष ममश्र जो जबलपुर की ही थी| अतसर वह कल्य णी के स थ छ ि व स आ ज ती और कल्य णी की तरह उसके स थ भी ननकटत पटने से हम सहेमलय ाँ बन गईं | छ ि व स में के वल िो जून ही ख न ममलत थ | सुबह सबको खुि च य-प नी क प्रबंध करन थ | हम रे आव स के पीछे ग्व मलन चुनकी ब ई क घर थ , वह हमें िूध िे ज ती थी | सप्त हभर के समय में मैं सबसे दहलममल गई | ख ने की मेज़ पर ज ते ही एक दिन यूाँ ही कु छ लड़ककयों ने मुझे ग ने के मलए कह , सोच होग कक मुझे ग न नहीं आत है और मेरी अच्छी मज़ क उड़ एाँ | पर मैंने ग न शुरू ककय ‘कोयमलय बोले अंबुआ की ड़ ल पर ‘ – सब िंग रह गईं (मैंने कु छ समय तक संगीत सीख थ और नृत्य भी) | मेरी आव ज़ भी तब बहुत मीठी थी | कफर तय थ – अतसर मुझसे फरम तीं और मैं भी ग ती | उनकी पसंि के कु छ गीत थे – ‘र ज की आएगी ब र त, कजर मोहब्बतव ल , खझलममल मसत रों क आाँगन होग , छम-छम ब जे प यमलय , ओ..गंग मैय में जब तक यह प नी रहे ..’ इत्य दि- इत्य दि |
  4. 4. कमल गुरुजी को मैं कभी-कभी ग कर सुन ती, सुनकर वे बहुत खुश होती थीं| प ठक ब ई ख न बन ती थीं बहुत स्व दिष्ट, पर मैं प्य ज – लहसून नहीं ख ती, ख ने में मुझे तकलीफ़ होती थी | चन्ि ब ई ग इकव ड़ हम री िेखरेख के मलये ननयुतत थीं | हम लोग उनसे भी िोस्त न व्यवह र ही करती थीं | बीच में ककसी रर्वव र को हम िस-पन्रह लड़ककय ाँ भेड़ घ ट िेखने गईं | नमयि जी ऊपर से नीचे क फी गहर ई में उछलती-कू िती उतरती हैं, इस तरह कु छ िूर तक सफे ि ब िल छ य -स लगत है कक कु छ दिख ई नहीं पड़त , उसक उचचत न मकरण ककय है धुआाँध र | िेखने ल यक दृश्य है, क्ज़न्िगी में हरेक को एक ब र वह ाँ ज कर िेखन आवश्यक है | कफर नीचे थोड़ी िूर-तक उछल-कू ि मच ते हुए म ाँ नमयि हमें भयभीत कर िेती है, उसके ब ि श न्त बह व लेकर चलती है | िोनों ओर ऊाँ चे-ऊाँ चे चमकि र (श यि संगमरमर) गुल बी, सफे ि पत्थरों, चट्ट नोंव ले पह ड़ खड़े हैं | आगे चलनेपर (नौक से) लखनऊ जैस वह ाँ भी भुलभुलैय है | पत ही नहीं चलत है कक ककस ओर से नमयि जी बहती है, ऐस भ्रम उत्पन्न होत है कक तीनों ओर से ध र क प्रव ह है | बड़ मनमोहक दृश्य है | प्रथम वषय दिव ली की छु दट्टयों में हम सब (अचधकतर लड़ककय ाँ) अपने घर गईं, मैं भी बन रस अपने घर | कल्य णी मुझे लेकर छ ि कल्य ण अचधष्ठ त श्रीम न अजेय चौह न के प स गई रेलवे-कन्सेशन फ मय के मलए | मुझे पत चल कक वे सुप्रमसद्ध कवनयिी सुभर कु म रीजी के सुपुि हैं | उनके घर भी मुझे ले गई | घर के आगे के आाँगन में सुभर जी की कं धों तक की मूनतय आगन्तुकों की अगव नी करती है | उनक
  5. 5. जन्म उत्तर प्रिेश के इल ह ब ि के ननह लपुर में सन् 1904 को हुआ तथ र्वव ह खडड़व में | उसके ब ि वे जबलपुर में रहने लगीं | ग ड़ी की िुघयटन में उनक स्वगयव स सन् 1948 को हुआ थ | दहन्िी जगत के मलए उनक अभ व िुभ यग्य की ब त है | उनके एक और पुि हैं अशोक चौह न | िोनों को घमडड़ क न म तक श यि पत नहीं, उनक व्यवह र अत्यंत सरल थ | मैंने मन-ही-मन कल्य णी को धन्यव ि ककय | दिव ली की छु दट्टयों के ब ि मेरी म त जी मुझे जबलपुर छोड़ने गईं | िो दिन वहीं रहीं | संतोष हम लोगों को लेकर अपने घर गई, कल्य णी भी स थ थी | उसके घर के लोगों ने इस तरह हम रे स थ व्यवह र ककय कक मुझे आज तक भुल ए नहीं भूलत | भ रतीय संस्क र के अनुस र म त जी के प ाँव धुलव कर उन्हें आसन (पीढ़ ) पर त्रबठ कर चौकी पर ख न परोस | श यि मसंघ ड़े की पूररय ाँ, स व ाँ क खीर, पत नहीं ककतने तरह की चीज़े थीं | त्रबजली के पंखे के होने के ब वजूि ब जू में बैठकर संतोष की म त जी ह थ क पंख झलती रहीं | सन्ध्य तक हम लोग वहीं रहीं, कफर एक ब र च य-प नी, सच में ऐसी मेहम नि री मैंने श यि ही कहीं िेखी | छ ि व स की कई लड़ककय ाँ म त जी से ममलीं | उनकी ब तें सबको पसन्ि आईं | मना करने पर भी कइयों ने आग्रहपूवयक उन्हें घर की ममठ इय ाँ खखल ईं | वे जब बन रस के मलए ख न हुईं तब कई स्टेशन तक उन्हें छोड़ने चलीं, सबने उनसे मेरी खूब त रीफ़ की | बड़े दिन की छु दट्टयों में कमल गुरुजी अपने बेटों और बेटी को लेकर अपनी ग ड़ी से मेरे स थ बन रस चलीं | हम रे घर क ख न उन्हें खूब भ य | उन्हें लेकर र्पत जी स रन थ गए | स रन थ क अवशेष िेख गुरुजी बहुत प्रभ र्वत हुईं | गंग जी में न व से चलते हुए बन रस के स रे घ टों के िशयन ककए | र म नगर (क शी नरेश की कोठी) चलकर वह ाँ क संग्रह लय िेख | उसके ब ि मुझे स थ लेकर जबलपुर लौटीं | नव (अंग्रेज़ी) वषय के कई क ययक्रमों में उन्हें भ ग लेने क ननमंिण थ , वे मुझे भी स थ ले गईं और कइयों से मेर पररचय कर य | उन्होंने भी कई ब र मुझे अपने ह थ क ख न खखल य थ | छ ि व स बन्ि होने के क रण उन्होंने मुझे अपने घर अपने स थ रख | छु दट्टयों के ब ि सब लड़ककय ाँ लौट आईं | मैंने गुरुजी से कह कक उन्हें मह र्वद्य लय से क फ़ी िूर चलकर मुझे ल न पड़त है, इसमलए कहीं िूसरी जगह मेरे रहने क प्रबंध हो ज ए तो सुर्वध होगी | उन्हें नेर्पयर ट उन और मह र्वद्य लय के र स्ते में एक मदहल वसनत गृह ममल | वह ाँ ज कर व ड़यन श्रीमती (प्रभ वती) ओक से ममलीं | उन्हें जाँच तो उन्होंने वह ाँ मेरी रहने की व्यवस्थ की | श्रीमती ओक के ब रे में यह ाँ मलखन बहुत ज़रूरी है | उनकी िो बेदटय ाँ थीं, बड़ी मोहन तथ छोटी चचि जो वल्ड़य पीस आगयन इज़ेशन की सिस्य थीं उस समय अमेररक में थीं | वे मुझे अपनी भ नजी म नने लगीं | उन्हें आध रत ल में कृ र्ष र्वश्वर्वद्य लय की ओर से घर ममल थ | उनके पनतिेव वहीं रहते, कभी-कभी जबलपुर के ननव स (घर) आते | एक ब र की ब त है, श्रीमती ओक ब हर गई हुई थीं, हम प ाँच लड़ककय ाँ आव स में थीं | श्रीम न ओक नौसेन के अवक श-प्र प्त ओहिेि र थे | मैंने उन्हें त्रबठ य और प नी र्पल कर च य न श्ते की तैय री की | उन्होंने मेरे ब रे में पूछ , इतने में
  6. 6. श्रीमती ओक आ गईं | श्रीम न ओक ने मेरी क फी त रीफ की | वैसे तो कॉलेज में भी मेरे स्वभ व- व्यवह र की खूब प्रशंस होती थी | श्रीमती ओक ने मेरी प्रशंस करते हुए मेरे र्पत जी को पि भी मलख भेज थ | कॉलेज के सब गुरुजन यह कहकर मुझे सर हते कक म त -र्पत की इकलौती पुिी होने पर भी अत्यंत नम्र स्वभ वव ली, आज्ञ प लन करनेव ली, बड़ों के प्रनत आिर और श्रद्ध क व्यवह र करनेव ली, ममलनस र, अध्ययनशील लड़की है | उस स ल व र्षयकोत्सव के अवसर पर मुख्य अनतचथ को म ल पहन कर उनक स्व गत करने क महत्वपूणय क म मुझे सौंप गय | कमल गुरुजी ने कह कक इसे नृत्य भी म लूम है | अत: नृत्य करते हुए मंच से उतरकर अनतचथ को म ल पहन ए तो अच्छ रहेग | प्र च ययजी को भी यह ब त अच्छी लगी | पर कई स ल पहले मैंने नृत्य सीख थ | मुझे ड़र लग कक पत नहीं कै से अपन क्ज़म्म ननभ प ऊाँ गी | ज़र अभ्य स भी करने लगी | आखखर व र्षयकोत्सव क दिन आ ही गय | मैं मंच पर गई | मंच के नीचे पहली पंक्तत में बीचों बीच अनतचथ के स थ प्र च ययजी बैठे अनतचथ की ओर आाँखों से इश र कर रहे थे ! उधर तबले की आव ज़, मेरे ह थ में म ल , प ाँव में कम्पन, कफर भी बोल के अनुस र प ाँव चथरकने लगे | श यि मैहर मह र ज के पुि ने तबल -व िन ककय | प ाँच ममनट के नृत्य के ब ि ह थ जोड़ सबक वन्िन ककय , कफर धीमी गनत से सीदढय ाँ उतरकर प्र च यय गुरुजी के इश रे के अनुस र उन्हें म ल पहन कर झुककर प्रण म ककय , उन्होंने मेरे म थे पर ह थ धरकर आशीव यि ककए | कफर अचग्रम पंक्तत में र्वर जे हुए सबको मसर झुक कर सुस्व गत करते हुए प्रण म ककय | त मलयों की आव ज़ से सब आगंतुकों ने अपन हषय व्यतत ककय | मुझे लग कक मेरे पर उग आए और मैं आसम न में उड़ रही हूाँ | कफर एक के ब ि एक स र क ययक्रम खूबी से सम्पन्न हुआ | श्रीमती ओक ने एक एक ंकी न दटक हम लोगों (प ाँच लड़ककयों) से करव ईं | उसमें मैंने सरि रनी क प ि (धर) बहुत अच्छी तरह ननभ य ! मेर अमभनय सबको अच्छ लग | यह मेरे जीवन की अत्यंत महत्वपूणय-अर्वस्मरणीय घटन है | िूसरे स ल िशहर -दिव ली की छु दट्टयों में मुझे कल्य णी अपने स थ वध य ले गई | हम रे स थ सरल र ठी भी थी जो र्वश्वर्वद्य लय के प्रो.ड .र ठी की पुिी थी | उनके ब रे में कहन बहुत ज़रूरी है | वे र्वल यत होकर आए थे य वह ाँ अध्ययन कर लौटे थे, पर वे तथ उनकी श्रीमतीजी िोनों इतने व त्सल्यमय व्यवह र करते थे कक मैं कभी उन्हें भूल नहीं सकती | वध य के प स के ग ाँव में बेटे अपने खेतों को साँभ लते वहीं रहते थे, बीच-बीच में फु रसत से जबलपुर आते थे | जबलपुर से वध य ज ते र स्ते में न गपुर पड़त है | र स्ते में िोनों ओर हररय ली ही हररय ली दृक्ष्टगोचर हुई | मेरे ख्य ल से सेलू न मक ग ाँव संतरों तथ के लों के ब ग- बगीचों से भर पड़ थ | यह भी सुन कक कोई भी बगीचों में ज कर फल तोड़कर ख सकत है, पर ब हर ल नहीं सकत | वध य में प्र त:क ल ‘नीर ’ (खजूरहटी – खजूर की ज नत के छोटे-छोटे पीले गोल फ़लों क रस) ममलत है जो बहुत ही स्व दिष्ट होत है |
  7. 7. कल्य णी क घर वध य के प्रत प चौक में थ | उसके र्पत जी श्रीम न मुन्न ल लजी श ह ग ाँधीव िी थे | उसकी म त जी कई स ल ग ाँधीजी के स थ ही रहती थीं | च च जी सि घर के आगे के कमरे में चख य, कु छ पुस्तकों के स थ ख िी वस्ि पहने चौकी पर बैठे रहते थे | ख न तो अत्यन्त स क्त्वक (उनके स्वभ व-स ), त्रबन नमक-ममचय-तेल ख ते | कल्य णी क एक छोट भ ई थ बड़ ही प्य र | च च जी ने मेर प्रण म स्वीक र और आशीव यि ककये | वह ाँ ज न मेरे मलए अत्यन्त भ ग्य की ब त थी | मुन्न ल ल च च जी हम सबको लेकर मगनव ड़ी गए | वह ाँ के ख स लोगों से मेर पररचय कर य | सरल सुबह अपने ग ाँव से अपने बड़े भ ई के स थ आ ज ती और श म को य तो हम रे स थ रह ज ती य कभी घर लौट ज ती | वध य में (महर ष्ट्र में) दिव ली क त्यौह र प ाँच दिन तक मन य ज त है | स रे घर के ले के पेड़, तोरण, रंगोली से सजे होते | िेखने में बहुत अच्छ लगत थ | वैसे तो च च जी वध य के कई प्रनतक्ष्ठत व्यक्ततयों के घर मुझे ले गए | हर घर में ग ाँधीजी की तस्वीर टाँगी िेखी | वह ाँ के अचधकतर लोगों ने स्वतंित संग्र म में ककसी-न-ककसी रूप में भ ग मलय थ | उन सबसे ममलकर मैं स्वयं को धन्य म नने लगी | वे हमें सेव ग्र म के आश्रम ले गये | ग ाँधीजी क अंनतम ननव स स्थ न दिख य | वह ाँ के लोगों से भी ममलव य | (From Left: पौनार में - श्रीमती मुन्न ल लजी, कल्य णी क छोट भ ई, श न्त शम य और कल्य णी श ह) (From Left: सेव ग्र म आश्रम में श्री मुन्न ल ल च च जी के स थ श न्त शम य) उसके ब ि संत र्वनोब जीभ वे के पौन र आश्रम ले गये | हम लोग र्वनोब जी के िशयन कर, उनकी प्र थयन सभ में भ ग लेकर वहीं एक दिन ठहरे | वह ाँ क भोजन भी अत्यन्त स क्त्वक --- त्रबन नमक-ममचय तेल के उबली सक्ब्जय ाँ ह थ की बनी मोटी रोदटय ाँ आदि | उनके आश्रम में कई र्वल यती भी रहते थे | र्वनोब जी तस्वीर नहीं खखंचव ते थे | च च जी के अनुरोध पर उनके अनुज कनोब जी भ वे ने हम लोगों के स थ तस्वीर खखंचव ई | संत र्वनोब जी सुबह चखे पर सूत क तते हुए भ षण िेते, बकरी क िूध और मूाँगफली – यही उनक सुबह क भोजन थ | उन्हें प्रण म अर्पयत कर उनके आशीव यि मलए |
  8. 8. कफर हम लोग बोरधरण गए | ग ाँधीजी की अक्स्थयों पर बने खंभे के िशयन ककये | (From Left – Sarala’s brother, kalyani’s younger brother, Sarala, Shanta & Kalyani) ऐस अवसर, ऐसे गडय-म न्य लोगों क स थ, र्वरले ही व्यक्ततयों को ममलत है – उनमें से मैं एक, है न भ ग्य की ब त ? – मुझे तो र्वश्व स ही नहीं होत थ | बीस – पच्चीस दिन कै से गुज़रे – पत ही न चल | (मुन्न ल ल च च जी ग ाँधीजी के स थ) वह ाँ से लौटन ही थ | छु दट्टय ाँ खत्म हो रही थीं | कल्य णी और सरल के स थ मैं जबलपुर लौटी | कमल गुरुजी के स थ कॉलेज ज न , अध्ययन, श्रीमती ओक क स्नेदहल व्यवह र – सब पूवयवत् चलत रह | होली के अवसर पर छ ि र्पचक ररय ाँ लेकर तंग करने आएाँगे | इसमलए श्रीमती ओक मुझे आध रत ल अपने घर ले गईं | आजू – ब जू के लोग ममलने आएाँगे, इस क रण उन्होंने िेखते-िेखते नमकीन बन य और उनके यह ाँ की चने की ि ल की पूरण पोळी (पोली) क स्व ि और कहीं मैंने चख ही नहीं | तीन दिन मैं वह ाँ रही, तरह-तरह के पकव न बन कर उन्होंने रंगीन होली को सुस्व ि होली में बिल दिय | उनके यह ाँ बीटी ब ई घर क क म खूब साँभ लती थी | श्रीमती ओक की सेव मन से, श्रद्ध से करती थी | उनके घर िो कु त्ते (बुटुरू और – न म य ि नहीं) पलते थे | एक कु नतय ने प्य रे-प्य रे च र बच्चे दिए जो चुदहय के आक र के थे |
  9. 9. वह ाँ से हम लोग जबलपुर लौट आईं | आने के ब ि संतोष, कल्य णी और सरल से अतसर ममल करती | एक दिन कल्य णी मुझे लेकर स दठय कु आाँ गईं | ज ते समय उसने कह कक एक मह न व्यक्तत के िशयन कर एगी | वे मह न व्यक्तत थे श्रीम न ब्यौहर र जेन्र मसंह जी | श्रीम न ब्यौहर र जेन्र मसंहजी मह र नी िुग यवती के वंशज तथ ब्यौहर रघुवीर मसंहजी के सुपुि थे | अपनी प्र चीन भ रतीय परंपर और संस्क र को जीर्वत रखने, उन्हें आगे की पीढ़ी को सौंपने क ि नयत्व उन्होंने खूब ननभ य | उनक यह “व्यवह र” समय के स थ चलते-चलते ‘ब्यौहर’ मे पररवनतयत हो गय | उनक बहुत बड़ महल िेख मैं चककत रह गई | उस महल में मह त्म ग ाँधीजी, जव हरल ल नेहरूजी, ड . र जेंन्र प्रस िजी (स्वतंि भ रत के प्रथम र ष्ट्रपनत), संत र्वनोब भ वेजी, र ष्ट्रकर्व मैचथलीशरण गुप्तजी, सुप्रमसद्ध कर्व म खनल ल चतुवेिीजी आदि मह नुभ व अनतचथ बनकर रहे | सन् 1933 क क ाँग्रेस अचधवेशन भी उसी महल मे सम्पन्न हुआ थ | ऐसी मदहम मय ( वह तो स ध रण-स र्वशेषण है, इससे बदढ़य अब मुझे सूझ नहीं रह है ) कोठी में पूरे िो दिन कल्य णी के स थ रहने क भ ग्य-सुयोग प्र प्त हुआ | अपने भग्य को मैंने खूब सर ह | श्रीम न ब्यौहरजी ने बहुत सरलत से हम लोगों से व त यल प ककय | कल्य णी के पररव र से उनक पूवय पररचय थ | मेरे ब रे में उन्होंने पूछ , र्ववरण प्र प्त करने के ब ि कह “र्वद्व न र्पत की एक म ि पुिी हो, उनसे पूरी तरह संस्क र-र्वद्वत्त प्र प्त कर उनक न म रोशन करो” | मैंने मसर झुक य और कह , “जी भरपूर प्रयत्न करूाँ गी”| रसोइय को बुल कर कह कक हम लोगों के मलए मन-पसंि भोजन पक कर खखल ए | उस महल में कई आाँगन और उतने ही रसोईघर थे | सब सफ़े ि पुतनी ममट्टी से मलपे-पुते | घूम-कफर कर िेखते-िेखते मेरे प ाँव िुखने लगे| कल्य णी को धन्यव ि ककय | हम वह ाँ से चलने लगीं तो श्रीम न ब्यौहरजी आगे के प्र ाँगण के चबूतरे पर बैठे हुए थे, उन्होंने पूछ , “कोई कष्ट तो नहीं हुआ | जब मन करे आ ज न बेटे”| इतने बड़े व्यक्तत और उनमें इतनी स िगी ! वे दिन मेरे म नमसक पटल पर अब भी आज के -से अंककत हैं | एक ब र मुझे म.प्र. के मुख्य मंिीजी श्रीमन् न र यण से भी कल्य णी ने ममलव य थ | उसके क रण ही मुझे यह सुनहर -सुअवसर प्र प्त हुआ थ | जबलपुर में खरीिि री के मलए सहेमलयों के संग छोट फु ह र और बड़ फु ह र ज न , पंचमढ़ी पह र्ड़यों के बीच सैननकों क क़व यि िेखन , पह ड़ों के पीछे से सूरज क उिय, कफर पह ड़ों के पीछे सूरज क अस्त, वह ाँ के लोगों क प्य र भर व्यवह र, सह छ ि ओं क स्नेह, गुरुजनों क म गय-िशयन --- इन सबसे त्रबछु ड़कर अंनतमवषय की परीक्ष के ब ि आाँखों से आाँसू भरकर, आाँसू भरी आाँखों से िेखते हुए मैं बन रस लौट आई | सम वतयन – सम रोह (उप चधि न सम रोह) में भी सक्म्ममलत न हो प यी | कमल गुरुजी ने मेर उप चधपि ड क द्व र भेज थ | उन्होंने पि मलखकर बत य थ कक मेरी ननबंधव ली उत्तर पुक्स्तक ( र्वषय की गहर ई और सुन्रर अक्षरों के मलए ) दहतक ररणी मह र्वद्य लय के सूचन -पट (नोदटस बोड़य) पर टाँगी रही | वह ाँ के पूरणचन्ि श्रीव स्तव गुरुजी ने मेरे ननबंध की खूब प्रशंस की | मुझे पी.एच.ड़ी करने के मलए छ िवृक्त्त ममल गई तो कमल गुरुजी ने मुझे जबलपुर व पस बुल मलय | पूरण चन्र श्रीव स्तव गुरुजी के म गयिशयन में शोध क यय करने क प्रबंध ककय गय | गुरुजी ने मेरे सुन्िर अक्षरों और ननबंध
  10. 10. को खूब सर ह | मैं कफर श्रीमती ओक के मदहल वसनत गृह में रहने लगी | पर पररक्स्थनत कु छ ऐसी बनी कक मुझे शोध क यय अधूर छोड़ बन रस आन पड़ | मेरी न नीजी बहुत बीम र थीं | उन्होंने ही मुझे शैश वस्थ से प ल थ | मैं उनके प स ही रहती, पर तय फ़ यि ! वे हमेश के मलए हमें छोड़कर चली गईं | मेर दिल इस तरह उजड़ गय कक पी.एच.ड़ी. क यय में मेर मन न लग | हम लोग हर मंगलव र को बड़े सवेरे म ाँ िुग यजी के िशयन करते हुए संकट मोचन हनुम नजी के मंदिर ज तीं | िुग यकु डड़ में मैं उस सुन्िर “वसुन्धर ” (घर क न म) को िेखते हुए ज ती | जबलपुर ज ने पर मुझे ज्ञ त हुआ कक वह श्रीम न प डड़ेजी क गृह है जो जबलपुर र्वश्वर्वद्य लय के उप कु लपनत थे | र्पत जी क उनसे पररचय थ | वे छु दट्टयों में ममलने ही व ले थे कक अच नक उनक स्वगयव स हो गय | र्पत जी को अत्यन्त िु:ख हुआ, उन्होंने व्यथ जत ते हुए कह “ अपने सुयोग्य पुि को वसुन्धर ने अपनी गोि में नछप मलय | कब तक वह अपने प्य रे पुि से त्रबछु ड़ी रहेगी | हमें उन्हें खोने क िु:ख है तो उसे उन्हें प ने क सुख |” खैर, आज भी जबलपुर के उन िो वषों की स्मृनत खूब अच्छी लगती --- लगत है कक ककसी अद्भुत स्वगय में थी | उन सब पूज्य गुरुजनों, बड़ों को, उनके दिए व त्सल्य भरे म गय-िशयन तथ उपिेशों के प्रनत उनके चरणों में मन-ही- मन श्रद्ध -सुमन अर्पयत करती हूाँ | हमउम्र सहेमलयों तथ पररचचतों को दिल की गहर ई से नमस्क र समर्पयत करती हूाँ | आज भी उनमें से कोई मुझसे ममले तो मेरे मन-स गर में आनन्ि की लहरें उमड़ पड़ेंगी | वे दिन कह ाँ से ल ऊाँ जो अत्यन्त सुन्िर, सुन्हरे, हषय-सने थे ?!! उन स री पुडय समलल ओं को ब र-ब र प्रण म समर्पयत करती हूाँ क्जनके ककन रे बसे स्थ नों में मैंने मशक्ष प्र प्त की ( म त सुख निी – पुर न उत्तर आक यड़ क्जल , पूज्य िेवी म त गंग जी – बन रस, चोरल निी – बड़व ह म.प्र., म ाँ नमयि जी म.प्र.,), क्जन्होंने मुझमें संस्क र और सभ्यत रूपी अनमोल रत्न भरे, सत्संगनत क अप र भडड़ र प्र प्त कर य |

×