Diese Präsentation wurde erfolgreich gemeldet.
Wir verwenden Ihre LinkedIn Profilangaben und Informationen zu Ihren Aktivitäten, um Anzeigen zu personalisieren und Ihnen relevantere Inhalte anzuzeigen. Sie können Ihre Anzeigeneinstellungen jederzeit ändern.

Yog aur swasthya

1.071 Aufrufe

Veröffentlicht am

yoga and health, how to improve your mental and physical health with the help of yoga

Veröffentlicht in: Lifestyle
  • Als Erste(r) kommentieren

Yog aur swasthya

  1. 1. यययोोोगगग औऔऔररर स्स्स्वववााास्स्स््््ययय
  2. 2. योग और स्वास््य स्वास््य का मतलब क्या है ? यह समजने के ललए हमे स्वास््य यह शब्द का अर्थ समझना होगा | स्व - याने हम खुद | (स्वयं) स्र् - याने लस्र्र होना |  याने स्वयं में लस्र्र होना |  क्या हम लस्र्र है ?
  3. 3. योग और स्वास््य WHO द्वारा की गई व्याख्या – स्वास््य के वल रोगोंका अभाव नहीं. बलकक शारीररक, मानलसक, आध्यालममक और सामालजक सुलस्र्लत याने स्वास््य |
  4. 4. योग और स्वास््य  अब सवाल यह है की, क्या हम स्वस्थ है ?  हमारा स्वास््य ठीक क्यों नहीं है ?  इसका कारण है- हमारी आधुननक जीवनशैली और भागदौड़ भरी नजिंदगी|  इसका पररणाम - कई मनोकानयक रोग : निप्रेशन, िायनबटीस, ब्लि प्रेशर इन रोगोंका सामना करना पड़ता है | साथ - साथ शारीररक दुबबलता, शरीर का लचीलापन कम होता है| थकान मेहसुस होती है |  इसके कारण हमने स्वयिं की लस्र्रता खो दी है |  अगर हमें इनसे बचना है, तो उसके नलए उत्तम मागब है योग|
  5. 5. योग और स्वास््य योग अनुसार स्वास््य के दो मुख्य घटक है | स्वास््य १) शारीररक २) मानलसक आहार लवहार लवश्ांलत लवकार लवचार लववेक
  6. 6. योग और स्वास््य शारीररक आहार लवहार लवश्ांलत आहार - हमारे शरीर का स्वास््य बहेतर रखने के ललए आहार की भूलमका सबसे महमव पूणथ है |अलिक मात्रा और अयोग्य आहार से हमारा स्वास््य लबगड़ता है | इसललए हमें सालमवक, सीलमत और संतुललत आहार लेना चालहए |
  7. 7. योग और स्वास््य लवहार - लवहार का मतलब है, शारीररक स्वास््य और स्वास््य संविथन के उद्देश्य से की गई शारीररक लियाए/ हलन - चलन | लेलकन इस हलन चलन में अगर आनंद प्रालि का भी उद्देश्य हो तो इसे लवहार कहते है| लवश्ांलत - लवश्ांलत में लनद्रा का समावेश होता है | लनंद्रा से हमारे शरीर और मन को लवश्ांलत लमलती है | हम अपने जीवन में लजस प्रमाण में क्ट, श्म करते है | मुसीबतों का सामना करते है , उसी प्रमाण में हमें लवश्ांलत लेनी चालहए |
  8. 8. योग और स्वास््य मानलसक लवकार लवचार लववेक लवकार - लवकार याने शारीररक और मानलसक स्तरों का रोग | यहााँलवकार का अर्थ है - मनोकालयक व्यािी या मनोलवकार | इसके कारण है - िोि, द्वेश, ममसर, बुरे लवचार, अलत कामवासना इनके अलतरेक से हमारा मानलसक स्वास््य पूरी तरह लबगड़ता हैऔर हम मनोकालयक व्यलियोसे ग्रस्त हो जाते है|
  9. 9. योग और स्वास््य लवचार - अलत लवचार, अयोग्य लवचार, बुरे लवचार , गलत लवचार इनसे भी हमारा मानलसक स्वास््य लबगड़ता है | गर, हम अपने जीवनमें सकाराममक द्रल्टकोन अपनाएंगे तो हम अनेक लवकारो सेदूर होकर लववेक की और जा सकते है| लववेक - संयम, संतुलन, बंिन, लनयंत्रण याने लववेक, लेलकन लववेकशून्य वतथन हमारा मानलसक और सामालजक स्वास््य लबगाड़ता है | इसललए हमे समाजमे रहते हुए और दैलनक जीवनमे लववेक बुलि अपनानी चालहए |
  10. 10. योग और स्वास््य योग द्वारा उत्तम स्वास््य योग में की जानेवाली लियाए  आसन - आसनों द्वारा हमारा शारीररक स्वास््य सुिरता है| शरीर में लचीलापन आता है | मांसपेलशयां मजबूत होती है | और शरीर में लस्र्रता प्राि होती है|  प्राणायाम - प्राणायाम से हम श्वसन द्वारा मनोलनयंत्रण प्राि करते है लजसके कारण हमे मानलसक स्वास््य और मानलसक संतुलन प्राि होता है|  शुलिलिया - इन लियाओ ंसे हमारे शरीर कीआंतररक शुलि होती है| और हमारा आंतररक स्वास््य सुिरता है|
  11. 11. योग और स्वास््य  त्राटक - इस लियासे हमारे मनकी चंचलता कम होकर हमारी एकाग्रता बढ़ती है| मनके लवचार कम होते है| बुलि का लवकास होता है| स्मरणशलति बढ़ती है|  लशलर्लीकरण - (शवासन) इससे हमारे शरीर और मनका स्वास््य बना रहता है | हम कई मनोकालयक रोगोसे मुलति पा सकते है | यही एक कम अंतर का रास्ता है जो हमे तनावयुति जीवनसे- तनावमुति जीवन की और ले जाता है|  मुद्रा और बंि - इन लियाओ से हमारी अन्तःस्त्रावी (इंडोिाइन ग्लेंड्स ) ग्रंलर्यों पर उत्तम कायथ होता है| इन ग्रंलर्यों का गहरा संबंि हमारे मानलसक स्वास््य से होता है | इनके लनरंतर अभ्यास से हम, हमारे शरीर में जो सुिशलति यााँ है, उन्हें जागृत कर सकते है | और सार् - सार् आध्यामम की और बढ़ सकते है |
  12. 12. योग और स्वास््य आयुवेद आयुवेद मे भी उत्तम स्वास््य के लवषय में यही कहा गया है की, समदोषा: समालग्नश्च समिातु मललिया: | प्रसन्नाममेंलद्रयामन: स्वस्र् इमयलभलियते || अर्ाथत - शारीररक स्वास््य के सार्-सार् हमारे आममा, इलन्द्रय और मन इनकी प्रसन्नता ही उत्तम स्वास््य है |
  13. 13. सारांश हमे सुखमय जीवन जीने की ललए उत्तम स्वास््य की आवश्यकता होती है | यह स्वास्स््य हम योग द्वारा प्राि कर सकते है | योगमे आहार को बहुत महमव लदया गया है | इस लवषय में बहुत कहा भी गया है | सालमवक, लसलमत और संतुललत आहार से हमे न की लसर्थ शारीररक स्वास््य प्राि होता है, बलकक इसका गहरा प्रभाव मानलसक स्वास््य और हमारी भावनाओ ंपर भी होता है | इसललए कहा गया है “यर्ा अन्न तर्ा मन:”
  14. 14. सारांश आसन, प्राणायाम और अन्य लियाए करते समय जब मन इन लियाओ के सार् जुड़ जाता है तब हमे आनंद प्राि होता है इसे ही हम लवहार कहते है | शवासन से उत्तम प्रकार लशलर्लीकरण होकर लवश्ांलत प्राि होती है | योग सािना और समसंग द्वारा लवकारों का प्रमाण कम होकर, हमारे लवचार उलचत, सही और सकराममक होने लगते है | “जैसे लवचार वैसाही आचार” याने इस तरह से हमारे आचार और स्वभाव में भी पररवतथन होता है | और हम लववेकशील बनते है |
  15. 15. सारांश इसतरह लनयलमत, लनरंतर और उलचत योगसािना करने से हमे शारीररक एवं मानलसक स्वास््य की प्रालि होती है| और हमारा स्वास््य संविथन होता है| हमे जीवनमे सर्लता और संतुल्ट प्राि होती है | योग द्वारा प्राि लकया हुआ स्वास््य ही मानव की संपलत है, और इस संपलत का नाम है “संतोष” | || हरी ॐ तमसत् ||

×